Search This Website

Wednesday, September 21, 2022

HDFC Issue Electronic Bank Guarantee , नेशनल ई गवर्नेंस सर्विस लिमिटेड और ई-बीजी क्या है जाने विस्तार से


  HDFC Issue Electronic Bank Guarantee , नेशनल ई गवर्नेंस सर्विस लिमिटेड और ई-बीजी क्या है जाने विस्तार से  



HDFC Issue Electronic Bank Guarantee : एचडीएफसी बैंक भारत का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक है, इसके साथ ही अब एचडीएफसी बैंक नेशनल e-governance सर्विस लिमिटेड के साथ पार्टनरशिप में इलेक्ट्रॉनिक बैंक गारंटी जारी करने वाला देश का पहला बैंक है। पेपर बेस्ड कामकाज समय लेने वाली प्रक्रिया को नई इलेक्ट्रॉनिक बैंक गारंटी के साथ लाया गया है। जिसे संसाधित, मुद्रांकित, सत्यापित और बढ़ी हुई सुरक्षा के साथ तुरंत ही डिस्ट्रीब्यूट किया जा सकता है। यह एक ट्रांसफॉर्मेटिव चेंज है और बैंक अपने सभी कस्टमर को लाभान्वित करने के लिए ही ई-बीजी में माइग्रेट किया जाएगा।  अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं   


 एचडीएफसी बैंक में नेशनल ई गवर्नेंस सर्विस लिमिटेड के सहयोग से पहले इलेक्ट्रॉनिक बैंक गारंटी ई-बीजी लांच की गई है। ई-बीजी, पेपर बेस्ड कामकाज को हटाकर तुरंत रिकॉर्ड करने की सुविधा देती है, जिसे बैंक से फिजिकल तरीके से लेने, लाभार्थी को कूरियर की डिलीवरी और स्टैम्पिंग और री-वेरिफिकेशन की जरूरत के कारण पूरा होने में अक्सर 3 से 5 दिन लगते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इस ऐप से करें फ्री में प्रिपरेशन - Safalta Application


ई-बीजी दक्षता और सुरक्षा को बढ़ावा देता है साथ ही लाभार्थी को तुरंत एनईएसएल पोर्टल पर बैंक गारंटी  देखने में समर्थ बनाता है, ई-बीजी एनईएसएल पोर्टल पर एपीआई बेस्ड डिजिटल वर्कफ़्लो के माध्यम से जारी किया जाएगा।


सभी बैंक गारंटी प्रोसेस का डिजिटलीकरण आसानी होगी, जो भी  बैंक गारंटी देने के लिए मुख्य आवेदक हैं। ई-बीजी एनईएसएल, सीवीसी- सीबीआई कमेटी और भारतीय बैंक संघ के परामर्श से डेवलप किया गया था।


 नेशनल e-governance सर्विस लिमिटेड भारत की पहली सूचना उपयोगिता है यह दीवाला और दिवालियापन संहिता 2016 के auspices में भारतीय दीवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड के साथ रजिस्टर्ड है।


यह अग्रणी बैंकों और सार्वजनिक संस्थानों द्वारा स्थापित किया गया था और इसे एक केंद्र सरकार की कंपनी के रूप में शामिल किया गया था। यह कानून साक्ष्य के भंडार के रूप में काम करता है, जिसमें वित्तीय या परिचालन लेनदेन द्वारा प्रस्तुत ऋण या दावे के बारे में जानकारी उपस्थित होती है और ये ऋण के लिए पार्टियों द्वारा वेरिफाइ किया जाता है। 


ई-बीजी क्या है जाने विस्तार से 


ई-बीजी को बैंक के प्रोसेस को सरल बनाने और धोखाधड़ी एवं हेर-फेर की संभावना को समाप्त करने के लिए सीबीआई कमेटी और आईबीए के परामर्श से डेवलप किया गया है। ई-बीजी एनईएसएल पोर्टल में एपीआई बेस्ड डिजिटल वर्कफ़्लो के माध्यम से जारी किया जाएगा। एचडीएफसी बैंक डिजिटल फैक्ट्री, और एंटरप्राइज IT के माध्यम से बनाने के लिए क्षमताओं का निर्माण करेगा।


No comments:

Post a Comment